[ad_1]

हाइलाइट्स

गुलखैरा के फसल की बुवाई नवंबर महीने में की जाती है और अप्रैल-मई में तैयार हो जाती है.
फिर पत्तियां और तना सूखकर खेत में ही गिर जाते हैं जिसे बाद में इकट्ठा कर लिया जाता है.
मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार गुलखैरा 10,000 रुपये क्विंटल तक बिक जाता है.

नई दिल्ली. अगर आप भी किसी बिजनेस आईडिया की तलाश में हैं तो आज हम आपको एक शानदार आईडिया दे रहे हैं. आप खेती के जरिए भी मोटी कमाई कर सकते हैं. हम एक ऐसे औषधीय गुणों वाले पौधे की बात कर रहे हैं, जिसके जड़, तना, पत्तियां बीज सबकुछ बाजार में बिक जाता है. हम बात कर रहे हैं गुलखैरा की खेती (Gulkhaira Farming) के बारे में.

लोग अब पारंपरिक खेती छोड़कर नकदी फसल की ओर रूख कर रहे हैं. ऐसी फसलों में किसानों की आमदनी कई गुना बढ़ जाती है. ऐसे में गुलखैरा की खेती कर आप मालामाल हो सकते हैं. गुलखैरा का इस्तेमाल सबसे ज्यादा दवाइयों में किया जाता है. इसलिए इसकी डिमांड बहुत ज्यादा है.

ये भी पढ़ें- Business Idea: बांस की खेती के लिए सरकार देती है 50% तक सब्सिडी, एक बार फसल लगा कर कई सालों तक उगाएं पैसा!

ऐसे करें इसकी खेती
गुलखैरा के फसल की खासियत यह है कि एक बार बुवाई करने के बाद दूसरी बार बाजार से बीज नहीं खरीदना पड़ता है. इन्हीं फसलों के बीज से दोबारा बुवाई की जा सकती है. गुलखैरा के फसल की बुवाई नवंबर महीने में की जाती है. फसल अप्रैल-मई महीने में तैयार हो जाती है. फसल तैयार होने के बाद अप्रैल-मई के महीने में पौधों की पत्तियां और तना सूखकर खेत में ही गिर जाते हैं, जिसे बाद में इकट्ठा कर लिया जाता है.

गुलखैरा का उपयोग
गुलखैरा के फूल, पत्तियों और तने का इस्तेमाल यूनानी दवाओं को बनाने में किया जाता है. इसके साथ ही मर्दाना ताकत की दवाओं में भी इस फूल को इस्तेमाल किया जाता है. इसके अलावा बुखार, खांसी और अन्य कई रोगों के खिलाफ इस फूल से बनाई गई औषधियां काफी फायदेमंद साबित होती हैं.

कितनी होगी कमाई?
मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार गुलखैरा 10,000 रुपये क्विंटल तक बिक जाता है. एक बीघे जमीन में 5 क्विंटल तक गुलखैरा निकलता है. लिहाजा एक बीघे में 50 से 60 हजार रुपये तक की आसानी से कमाई की जा सकती है.

Tags: Business at small level, Business from home, Business ideas, Business news, Business news in hindi, Earn money, Farming, Farming in India, Money Making Tips

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *