[ad_1]

हाइलाइट्स

20 दिसंबर 2023 से रिटेल निवेशक इसके लिए अप्लाई कर सकते हैं.
बोली लगाने की अंतिम तारीख 22 दिसंबर है.
28 दिसंबर को लिस्टिंग का आखिरी दिन.

नई दिल्ली. आज़ाद इंजीनियरिंग का आईपीओ आ चुका है. पिछले कई दिनों से यह कंपनी चर्चा में इसलिए भी है, क्योंकि मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने भी इस कंपनी में निवेश किया हुआ है. तेंदुलकर द्वारा कंपनी में पैसा डाले जाने की सूचना मई 2023 में आई थी. तब आज़ाद इंजीनियरिंग के फाउंडर और मैनेजिंग डायरेक्टर राकेश चोपदार ने खुशी जताई थी. उन्होंने कहा था- हम इस बात को लेकर उत्साहित हैं कि हमारे पास सचिन तेंदुलकर एक निवेशक के तौर पर हैं… यह हमारे लिए गर्व की बात है. हालांकि अभी तक यह खुलासा नहीं हो पाया है कि सचिन तेंदुलकर ने कंपनी में कितना निवेश किया था.

हैदराबाद से ऑपरेट हो रही आज़ाद इंजीनियरिंग का आईपीओ बाजार में आ चुका है. आज (20 दिसंबर 2023) से रिटेल निवेशक इसके लिए अप्लाई कर सकते हैं. ध्यान रहे बोली लगाने के लिए अंतिम दिन 22 दिसंबर मतलब शुक्रवार होगा. कंपनी ने इसके लिए 499 से 524 रुपये का प्राइस बैंड तय किया है. प्राइस बैंड का मतलब है कि निवेशक अलग-अलग दाम भरकर कई बोलियां लगा सकते हैं. 100 प्रतिशत से अधिक बोलियां आने की स्थित पर ऊपरी प्राइस बैंड (यहां 524 रुपये) पर ही अलॉट होता है.

ये भी पढ़ेंः एक शेयर, जिसमें अमिताभ बच्‍चन ने किया मोटा निवेश, हर साल दे रहा 125 फीसदी रिटर्न, 6 साल में 9 गुना बढ़ा पैसा

आज़ाद इंजीनियरिंग का इश्यू साइज़
आज़ाद इंजीनियरिंग के IPO का साइज़ 740 करोड़ रुपये है. इसमें 240 करोड़ रुपयों के फ्रेश शेयर इश्यू होंगे, जबकि 500 करोड़ के शेयर ऑफर फॉर सेल (OFS) के तहत जारी किए जाएंगे. रिटेल निवेशकों के लिए 35 प्रतिशत, QIB के लिए 50 प्रतिशत, और HNI के लिए 15 प्रतिशत कोटा सुनिश्चित किया गया है.

क्या काम करती है आज़ाद इंजीनियरिंग
किसी भी कंपनी के आईपीओ में पैसा लगाने से पहले उस कंपनी के बारे में जान लेना जरूरी है. संभव है कि आप जानते भी हों, मगर अधिकतम लोगों को इसके बारे में ज्यादा जानकारी नहीं होती. तो चलिए हम आपको संक्षेप में इसके बारे में जरूरी जानकारी मुहैया कराते हैं.

आज़ाद इंजीनियरिंग का मुख्य काम मैन्युफैक्चरिंग का है. यह एनर्जी, एयरोस्पेस, डिफेंस, और ऑयल एंड इंडस्ट्रीज़ के अपने क्लाइंट्स के लिए ओरिजिनल इक्यूपमेंट्स बनाती है. कंपनी जटिल इंजीनियर्ड फोर्ज्ड और मशीनीकृत घटकों का निर्माण करती है. कंपनी का काम समझने के लिए इसके क्लाइंट्स पर एक नजर डालनी चाहिए जिसमें बोइंग, जीई, मिस्तुबिशी, सीमन्स एनर्जी, हनीवेल, जीई एयरोस्पेस, हिन्दुस्तान एयरोनोटिक्स (HAL), और टाटा जैसे दिग्गज नाम शामिल हैं. कुछ समय पहले कंपनी ने बताया था कि वह अपनी दो नई मैन्युफैक्चरिंग यूनिट्स भी लगा रही है.

ग्रे मार्केट में काफी ऊंचा है दाम
आईपीओ वॉच के अनुसार, 17 दिसंबर को ग्रे मार्केट में आज़ाद इंजीनियरिंग का प्रीमियम (Azad Engineering GMP) 400 रुपये था. कल (मंगलवार, 19 दिसंबर को) इसका प्रीमियम 440 रुपये था. इस हिसाब से देखा जाए तो जिसे इसका आईपीओ अलॉट होगा, उसे पहले ही दिन लगभग 80 प्रतिशत का मुनाफा होने के चांस हैं.

मत भूलिएगा ये जरूरी तारीखें

  • 19 दिसंबर – एंकर निवेशकों को अलॉटमेंट
  • 20 दिसंबर – IPO खुलने की तारीख
  • 22 दिसंबर – IPO बंद होने की तारीख
  • 26 दिसंबर – अलॉटमेंट की तारीख (संभवत:)
  • 27 दिसंबर – रिफंड दिया जाएगा (संभवत:)
  • 28 दिसंबर – लिस्टिंग का दिन

Tags: Business news, Business news in hindi, IPO, Share market

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *