[ad_1]

हाइलाइट्स

बांस की खेती किसी भी खेत में कर सकते हैं.
इसके लिए बहुत अधिक उपजाऊ जमीन जरूरी नहीं है.
बांस चौथे साल से कमाई कराने लायक हो जाता है.

नई दिल्ली. क्या आपके पास खाली जमीन है? आप उससे कमाई करना चाहते हैं? लेकिन कोई तकनीकी नॉलेज आपके पास नहीं है और खेती के बारे में भी आप ज्यादा नहीं जानते? अगर ये तीनों बातें आपके लिए सही हैं तो बांस की फसल आपकी दुविधा का हल हो सकती है. बांस की खेती कहीं भी की जा सकती है. इसके लिए बहुत अधिक उपजाऊ जमीन की भी जरूरत नहीं होती है. बांस की खेती के लिए सरकार भी आपको सपोर्ट करती है.

बांस एक ऐसी फसल है जिसका इस्तेमाल कई तरह से होता है. यूपी-बिहार में शादियों के दौरान इसे उपयोग में लाया जाता है. घर बनाने के लिए इसे यूज में लिया जाता है. बांस से ही आजकल फैंसी और इकोफ्रेंडली बर्तन बनाए जाने लगे हैं. कुल मिलाकर बांस की मांग पूरे साल बनी रहती है इसलिए यह कमाई के लिए एक बेहतरीन विकल्प है.

ये भी पढ़ें: दिवाली लाइट्स, दीये, तोरण हो या रंगोली, सब सामान यहां मिलेगा बहुत सस्‍ता, भूल जाएंगे ऑनलाइन शॉपिंग

बांस की ही खेती क्यों?
बांस की फसल एक बार लगाकर आप कई साल तक मुनाफा कमाते रह सकते हैं. बांस तैयार होने में 3-4 साल का समय लगता है. लेकिन अच्छी बात ये है कि जो बांस आपने काटा है वहीं दोबारा बांस उग आएगा और फिर 4 साल बाद आपको कमा कर देगा. जबकि आपको नई फसल लगाने की कोई जरूरत नहीं होगी. ऐसा आप 40 साल तक कर सकते हैं. यानी आप न्यूनतम 10 बार तो बांस को काटकर पैसा बनाएंगे ही. गौरतलब है कि अगर आप यह खेती बड़े क्षेत्र में करते हैं और तीसरी बार की कटाई में आपकी कुल कमाई 1 करोड़ रुपये पार कर जाएगी. आइए जानते हैं वो कैसे होगा.

कैसे होगी कमाई
आप 1 हेक्टेयर जमीन में बांस के 625 पौधे लगा सकते हैं. अगर आप मध्य प्रदेश में हैं तो वहां की सरकार आपको बांस लगाने के लिए 50 फीसदी की सब्सिडी भी देगी. पौधे लगाने के 3-6 महीने में आपको बांस की ग्रोथ दिखने लगेगी. 3-4 साल में बांस पूरी तरह बनकर तैयार हो जाता है. आप 1 हेक्टेयर में लगाए गए बांस से 4 साल में 40 लाख रुपये कमा सकते हैं. अगर आप बांस को सीधे बेचने की बजाय उसका सामान बनाकर बेचते हैं तो आपका मुनाफा कई गुना बढ़ जाएगा.

Tags: Business ideas, Business news, Money Making Tips, New Business Idea

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *